Adolf Hitler की वो ग़लतियाँ, जिनसे World War II की धारा बदल गई (BBC Hindi)



22 जून 1941 को नाज़ी जर्मनी ने ऑपरेशन बारबरोसा शुरू किया था, जो सोवियत संघ के ख़िलाफ़ एक बड़ी आक्रामक कार्रवाई थी. उस समय सोवियत संघ की कमान स्टालिन के हाथों में थी. ये इतिहास का सबसे बड़ा सैनिक आक्रमण था. ये एक जोख़िम भरा दाँव भी था, जो उस समय एडोल्फ़ हिटलर ने दूसरे विश्व युद्ध को निर्णायक रूप से अपने पक्ष में करने की कोशिश में खेला था. लेकिन चीज़ें वैसी नहीं हुईं, जैसी जर्मनी के नेता हिटलर चाहते थे. इतिहासकार इस ऑपरेशन की नाकामी को दूसरे विश्व युद्ध का एक टर्निंग प्वाइंट और इसे जर्मन श्रेष्ठता के अंत की शुरुआत भी मानते हैं.

स्टोरी: बीबीसी हिंदी
आवाज़: नवीन नेगी
वीडियो एडिट: देबलिन रॉय

#AdolfHitler #WorldWarII #SovietUnion

Corona Virus से जुड़े और दिलचस्प वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें :

कोरोना वायरस से जुड़ी सारी प्रामाणिक ख़बरें पढ़ने के लिए क्लिक करें :

ऐसे ही और दिलचस्प वीडियो देखने के लिए चैनल सब्सक्राइब ज़रूर करें-

बीबीसी हिंदी से आप इन सोशल मीडिया चैनल्स पर भी जुड़ सकते हैं-

फ़ेसबुक-
ट्विटर-
इंस्टाग्राम-

बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें-

35 comments

  1. chutiye BBC england ki ya Churchill ki kuch mistake mt dikha dena tu log gand fati padi thi tumhari Or France ko jeet liya tha Germany ne duniya janti h bache hue hisse ne aatam-samarpan kiya tha lodo.. ye angrez muje kbhi se pasand nhi… thuuuuuuu

  2. Saara problem Greece mein Italy ki pitaai ki wajah se operation Barbarossa ko one month extend kirna pada tha jiske wajah se Russia ki sardi ka saamna nahi kar paaya tha tha Hitler's Nazi army…

  3. युद्ध में तो सैनिक विर्गति को प्राप्त होते ही है, लेकिन युद्ध में जो हिटलर ने यहुदी लोगों पर जो अन्याय किया वो बहुत ही बुरा था, उसने बर्बरता की सारी हदें पार कर दी थी

  4. Yes it's a mistake to German was attack both sides east and west, and German army not enough to face both side war, if German tie with Soviet union then results would be different, and British had a big mistake they wait and watch when German attack others country.

Leave a comment

Your email address will not be published.